उत्तराखंड में उद्योग स्थापित करने की प्रक्रिया क्या है जाने पूरी प्रक्रिया विस्तार पूर्वक ? - bimaloan.net
Uttarakhand

उत्तराखंड में उद्योग स्थापित करने की प्रक्रिया क्या है जाने पूरी प्रक्रिया विस्तार पूर्वक ?

उत्तराखंड में उद्योग स्थापित करने की प्रक्रिया वर्तमान समय में उत्तराखंड उत्तर भारत में निवेशकों की उद्योग स्थापित करने के लिए पहली पसंद बना हुआ है इसमें हरिद्वार सिडकुल क्षेत्र एवं जिले में अधिक फोकस है निवेशकों का उद्योग स्थापित करने में जहा हरिद्वार सिडकुल डिमांड को देखते हुए सिडकुल फेज 2 की प्लानिंग कर रहा है तो भगवानपुर एवं अन्य जगहों में भी निवेशक ऑप्शन ढूंढ़कर अपना उद्योग स्थापित कर रहे है

पिछले कुछ साल में उत्तराखंड में सरकार के द्वारा भी किर्यान्वयन पालिसी को आसान बनाने के बहुत प्रयास किया जा रहा है और निरन्तर जारी है इज ऑफ डूइंग बिजनेस की रणनीति को ध्यान में रखकर

आज इस लेख के माध्यम से आपको बताने का प्रयास करेंगे की उद्योग स्थापित करने के लिए कौन कौन से अप्प्रोवल्स की आवश्यकता होती है निवेशक को .

उत्तराखंड में उद्योग स्थापित करने की प्रक्रिया क्या है ?

  • निवेशक को उत्तराखंड में उद्योग स्थापित करने की प्रक्रिया में सर्वप्रथम भूमि की आवश्यकता होगी , उसके लिए निवेशक सरकारी एवं प्राइवेट औद्योगिक क्षेत्र में भूमि ले सकता है सरकारी में मुख्यता सिडकुल क्षेत्र में ले सकते है जहा सरकार के द्वारा सभी सुविधाए उपलब्ध कराइ गई है उद्योग स्थापित करवाने के लिए इसके लिए निवेशक सिडकुल की ऑफिस वेबसाइट पर जाकर खली प्लाट देख सकता है , अगर प्राइवेट इंडस्ट्रियल क्षेत्र में लैंड लेने के इच्छुक है तो स्वयं या किस अन्य एक्सपर्ट या कंसलटेंट की सहायता से इंडस्ट्रियल लैंड का पता लगाकर उनमे इंडस्ट्रियल लैंड लेने का प्लान कर सकता है . इसके अतिरिक्त उत्तराखंड सरकार के द्वारा कुछ समय पहले एक विशेष भूमि सुधार कानून में संसोधन किया था जिसके द्वारा निवेशक कृषि भूमि का चयन करके उसकी आद्योगिक परियोजन के लिए अप्लाई करके अनुमति के पश्चात खरीदकर अपना उद्योग स्थापित कर सकता है.
  • निवेशक को उत्तराखंड में उद्योग स्थापित करने की प्रक्रिया में भूमि की खरीदारी करने पर 2.5% की स्टाम्प ड्यूटी में छूट मिलती है.
  • इसके पश्चात निवेशक को उत्तराखंड में उद्योग स्थापित करने की प्रक्रिया में विभिन्न विभागों से उद्योग को स्थापित करने के लिए अनुमति चाहिए होती है, जिसको 3 फेज में रखा गया है .
    • इनप्रिंसिपल अप्रूवल :- इस अप्रूवल के माध्यम से निवेशक को ये पता लग जाता है की वो उत्तराखंड में उद्योग स्थापित करना चाहता है तो उसको अनुमति मिल सकती है या नहीं . छोटे उद्योगों की स्थापना में ज्यादा दिक्कत नहीं होती यदि रेड केटेगरी में न हो तो यदि उद्योग ज्यादा निवेश का है तो निवेश से पहले आवेदक भूमि के अग्रिमेंट के साथ सभी कंसर्न डिपार्टमेंट के लिए इनप्रिंसिपल अप्रूवल के लिए अप्लाई कर सकता है .

Business Idea In Uttarakhand :- बुरांश के जूस का बिज़नेस कैसे करे प्रारम्भ जाने ?

इनप्रिंसिपल अप्रूवल उद्योग स्थापित करने की प्रक्रिया के लिए

  • विधुत विभाग से अनुमति की वह इलेक्ट्रिसिटी आवश्यकता के अनुसार मिल सकती है या नहीं.
  • पोलुशन डिपार्टमेंट से यदि उद्योग की केटेगरी ऑरेंज या रेड है तो निवेशक को अनुमति मिल सकती है या नहीं .
  • लेबर डिपार्टमेंट से भी सैद्धांतिक मंजूरी की आवश्यकता होती है .
  • फायर डिपार्टमेंट से भी सैद्धांतिक अनुमति की आवश्यकता होती है .
  • डेवलपमेंट अथॉरिटी से भी अनुमति आवश्यक है .
  • यदि लैंड उपयोग चेंज से सम्बंधित है कुछ तो राजस्व डिपार्टमेंट से भी अनुमति लेनी होगी .
  • इसके अलावा निवेशक अपने प्रोजेक्ट के अनुसार यदि किसी अन्य महत्वपूर्ण डिपार्टमेंट से अनुमति चाहता है तो उसके लिए भी आवेदन कर सकता है .
  • प्रोजेक्ट अप्रूवल के लिए भी आवेदक के निवेश के अनुसार उसके लिए अप्रूवल रखा गया है यदि निवेश कम है ५ करोड़ से लेकर १० करोड़ के मध्य तो उसकी अनुमति जिला उद्योग केंद्र के द्वारा निवेशक की एप्लीकेशन रीड करने के बाद यदि कुछ कमी होती है तो रिवर्ट कर दी जाती है कमी को पूरा करने के लिए कहा जाता है और दुबारा सबमिट कर सकते है . इसके पश्चात जिला उद्योग केंद्र के द्वारा सभी डाक्यूमेंट्स एवं डिटेल्स सही पाए जाने के पश्चात ऊपर दर्शाये गए डिपार्टमेंट के लिए फाइल फॉरवर्ड की जाती है इसके पश्चात जब जब जो डिपार्टमेंट अप्रूवल देता जायेगा उसकी जानकारी ट्रांसक्शन विडोस पर दिख जाती है सभी से अनुमति मिलने के पश्चात जिला अधिकारी के द्वारा हर 15 दिन में उद्योग सम्बंधित बैठक ली जाती है उसमे अनुमति मिलने के पश्चात निवेशक का इनप्रिंसिपल अप्रूवल सर्टिफिकेट जारी कर दिया जाता है .
  • यदि निवेश 20 करोड़ से अधिक का है तो निवेशक की सिंगल विंडो डायरेक्टरेट ऑफ़ इंडस्ट्रीज में जाती है उनके द्वारा भी प्रारंभिक सभी प्रक्रिया पूरी करने के पश्चात निर्धारित तिथि पर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में स्वीकृत दी जाती है .

* यहाँ उत्तराखंड में उद्योग स्थापित करने की प्रक्रिया जानकारी इंवेस्ट उत्तराखंड के पोर्टल से प्राप्त जानकारी के आधार पर है अधिक जानकारी के लिए ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर प्राप्त करे.

बाकि फेज के अप्रूवल का अगले लेख में विस्तार से बताएँगे.

लेख :- अनूप जोशी :- 8909105631

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button
Jennifer Lopez Latest Exclusive Trending Instagram Pictures Shotgun Wedding Movie Review Latest Pictures Exclusive Masaba Gupta And Satyadeep Misra Married Pictures Tu Juthi Mai Makkar ❤️‍🔥✨🥵 latest Shraddha Kapoor and Ranbir Kapoor उत्तराखंड : धामी ने भ्रष्टाचार मुक्त व्यवस्था का आह्वान किया