इस गर्मी में रुद्रप्रयाग के किन दर्शनीय स्थलों मैं घूमने जाएं ?
इस गर्मी में रुद्रप्रयाग के किन दर्शनीय स्थलों मैं घूमने जाएं ?

इस गर्मी में रुद्रप्रयाग के किन दर्शनीय स्थलों मैं घूमने जाएं ?

रुद्रप्रयाग भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थित एक खूबसूरत जिला है। यह दो पवित्र नदियों, अलकनंदा और मंदाकिनी के संगम पर स्थित है, और हरे-भरे जंगलों, बर्फ से ढके पहाड़ों और सुंदर परिदृश्य से घिरा हुआ है। यदि आप इस गर्मी में रुद्रप्रयाग जाने की योजना बना रहे हैं, तो यहां उन जगहों की सूची दी गई है जहां आपको अवश्य जाना चाहिए:

रुद्रप्रयाग में घूमने वाले स्थानों की सूची ?

  • केदारनाथ मंदिर: केदारनाथ मंदिर भारत के सबसे पवित्र मंदिरों में से एक है और यह भगवान शिव को समर्पित है। यह केदारनाथ शहर में स्थित है, जो रुद्रप्रयाग से लगभग 74 किमी दूर है।
  • तुंगनाथ मंदिर: तुंगनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित एक और प्राचीन मंदिर है और समुद्र तल से 3,680 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इसे दुनिया का सबसे ऊंचा शिव मंदिर माना जाता है।
  • चोपता: चोपता समुद्र तल से 2,680 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक मनोरम हिल स्टेशन है। यह बर्फ से ढके पहाड़ों से घिरा हुआ है और अपनी प्राकृतिक सुंदरता और ट्रेकिंग ट्रेल्स के लिए जाना जाता है।
  • देवरिया ताल: देवरिया ताल समुद्र तल से 2,438 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक शांत झील है। यह हरे-भरे जंगलों से घिरा हुआ है और कैंपिंग और ट्रेकिंग के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है।
  • गुप्तकाशी: गुप्तकाशी रुद्रप्रयाग से लगभग 40 किमी दूर स्थित एक छोटा सा शहर है। यह केदारनाथ जाने वाले तीर्थयात्रियों के लिए एक लोकप्रिय पड़ाव है और अपनी प्राकृतिक सुंदरता और प्राचीन मंदिरों के लिए जाना जाता है।
  • कोटेश्वर महादेव मंदिर: कोटेश्वर महादेव मंदिर भगवान शिव को समर्पित एक प्राचीन मंदिर है और रुद्रप्रयाग से लगभग 3 किमी दूर स्थित है। यह अलकनंदा नदी के तट पर स्थित है और तीर्थयात्रियों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है।
  • अगस्तमुनि: अगस्तमुनि रुद्रप्रयाग से लगभग 16 किमी दूर स्थित एक छोटा सा शहर है। यह ऋषि अगस्त्य को समर्पित अपने प्राचीन मंदिर के लिए जाना जाता है और माना जाता है कि यह वह स्थान है जहां भगवान राम ने तपस्या की थी।

रुद्रप्रयाग कैसे पहुंचे ?

Rudraprayag उत्तर भारतीय राज्य उत्तराखंड में स्थित एक शहर है। Rudraprayag पहुँचने के विभिन्न रास्ते इस प्रकार हैं:

  • वायु द्वारा: Rudraprayag का निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो लगभग 159 किमी दूर है। हवाई अड्डे से आप Rudraprayag के लिए टैक्सी या बस ले सकते हैं।
  • ट्रेन द्वारा: Rudraprayag का निकटतम रेलवे स्टेशन हरिद्वार जंक्शन है, जो लगभग 156 किमी दूर है। Rudraprayag पहुँचने के लिए आप रेलवे स्टेशन से टैक्सी या बस ले सकते हैं।
  • सड़क मार्ग द्वारा: Rudraprayag उत्तराखंड के अन्य हिस्सों और पड़ोसी राज्यों से सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। Rudraprayag पहुँचने के लिए आप दिल्ली, ऋषिकेश, हरिद्वार, देहरादून या आसपास के अन्य शहरों से बस या टैक्सी ले सकते हैं।
  • हेलीकाप्टर द्वारा: आप देहरादून से फाटा तक एक हेलीकॉप्टर भी ले सकते हैं, जो रुद्रप्रयाग से लगभग 20 किमी दूर है, और फिर Rudraprayag तक पहुँचने के लिए टैक्सी या बस ले सकते हैं।

कुल मिलाकर, Rudraprayag पहुँचने के लिए कई विकल्प उपलब्ध हैं, और आप अपने स्थान और बजट के आधार पर सबसे उपयुक्त विकल्प चुन सकते हैं।

Rudraprayag में GMVN आवास की सुविधा ?

GMVN (गढ़वाल मंडल विकास निगम) Rudraprayag, उत्तराखंड में कई आवास सुविधाएं संचालित करता है। रुद्रप्रयाग में कुछ लोकप्रिय GMVN आवास हैं:

  • GMVN टूरिस्ट रेस्ट हाउस: यह Rudraprayag शहर में स्थित एक बजट आवास विकल्प है। कमरे बुनियादी लेकिन साफ हैं, और संपत्ति हिमालय पर्वतमाला के शानदार दृश्य पेश करती है।
  • GMVN पर्यटक बंगला, तिलवारा: यह Rudraprayag शहर से लगभग 15 किमी दूर स्थित एक और बजट आवास विकल्प है। संपत्ति एक शांत स्थान पर स्थित है और आसपास के पहाड़ों के सुंदर दृश्य पेश करती है।
  • GMVN न्यू टीआरएच गुप्तकाशी: यह Rudraprayag से लगभग 36 किमी दूर स्थित एक मिड-रेंज आवास विकल्प है। कमरे आरामदायक हैं और पहाड़ों और मंदाकिनी नदी के सुंदर दृश्य पेश करते हैं।
  • GMVN केदारनाथ हाउस, सोनप्रयाग: यह Rudraprayag से लगभग 50 किमी दूर स्थित एक बजट आवास विकल्प है। संपत्ति एक शांतिपूर्ण स्थान पर स्थित है और बुनियादी लेकिन आरामदायक कमरे उपलब्ध कराता है।
  • GMVN गौरीकुंड TRH: यह Rudraprayag से लगभग 70 किमी दूर स्थित एक बजट आवास विकल्प है। संपत्ति गौरीकुंड में स्थित है, जो केदारनाथ के लिए ट्रेक का शुरुआती बिंदु है, और बुनियादी लेकिन साफ कमरे उपलब्ध कराता है।

GMVN आवास ऑनलाइन या उत्तराखंड के विभिन्न शहरों में स्थित उनके कार्यालयों में बुक किए जा सकते हैं। कमरों की उपलब्धता भिन्न हो सकती है, इसलिए अग्रिम रूप से बुक करने की सिफारिश की जाती है।

उत्तराखंड: सरकार ने बीकेटीसी(BKMC) के सीईओ(CEO) को दोनों धामों के लिए विशेष कार्यकारी मजिस्ट्रेट(Special Executive Magistrate) के अधिकार दिए।

अंत में, Rudraprayag प्रकृति प्रेमियों और तीर्थयात्रियों के लिए स्वर्ग है। अपनी शांत झीलों, प्राचीन मंदिरों और प्राकृतिक सुंदरता के साथ, यह गर्मियों की छुट्टी के लिए एक आदर्श स्थान है। अविस्मरणीय अनुभव के लिए Rudraprayag में इन स्थानों की यात्रा करना सुनिश्चित करें।